मैया ओढ़ चुनरिया लाल एक बार तो आजा अंगना में,
एक बार तो आजा अंगना में, एक बार तो आजा अंगना में,
मैया ओढ़ चुनरिया लाल…..

मां हमने ज्योत जलाई है,
दर्शन की आस लगाई है,
करूं विनती बारंबार, एक बार तो आजा अंगना में,
मैया ओढ़ चुनरिया लाल…..

मेरी खाली झोली भर देना,
भक्तों को दर्शन दे देना,
मेरा हो जाए बेड़ा पार, एक बार तो आजा अंगना में,
मैया ओढ़ चुनरिया लाल…..

तेरी शेर सवारी मन भाई,
भक्तों की लाज बचा माई,
इनके भर दो भंडार, एक बार तो आजा अंगना में,
मैया ओढ़ चुनरिया लाल…..

मां तुम बिन कौन सहारा है,
जग में ना कोई हमारा है,
कहूं तुमसे बारंबार, एक बार तो आजा अंगना में,
मैया ओढ़ चुनरिया लाल…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह