मेरी अम्बे आदभवानी, करती है सिंघ सवारी,
कष्टों को मार देती है, ये बात है जग ने जानी।।

माँ असुरो को संहारे, माँ भैरो को भी तारे,
जय माँ, जय माँ, जय माँ, गूंजे जैकारे,
माँ सच है तेरी कहानी, दुनिया है तेरी दीवानी,
कष्टों को मार देती है, ये बात है जग ने जानी।।

माँ ऊँचे डेरो वाली, तेरा भवन न रहता खाली,
आये हुए भक्तो की तू भरती झोली खाली,
तू चमत्कार दिखलाती, कहलाती तू वरदाती,
कष्टों को मार देती है, ये बात है जग ने जानी।।

भक्तो की विनती सुन कर, माँ दौड़ी दौड़ी आती,
जो हम श्री धर बन जाये, माँ कंजक रूप में आती,
है मन चाहे फल देती, नवरात्रे पूर्ण करती,
कष्टों को मार देती है, ये बात है जग ने जानी।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह