मेरी मईया की पायल सुनार कर दे,
मैं तो पहनाऊगी, माँ के पैरो में…..

माथे में बिंदिया, लाल चुनरिया,
हाथो में कंगना, चमके मुंदरिया,
बस इतना जरा सा काम कर दे,
मैं तो पहनाऊगी, माँ के पैरो में…..

भा गयी मईया की मोहिनी मूरतिया,
चाँद सी चमके माँ की सूरतिया,
मेरी मईया के बिछुए, सुनार कर दे,
मैं तो पहनाऊगी, माँ के पैरो में…..

मेरी मईया की पायल सुनार कर दे,
मैं तो पहनाऊगी, माँ के पैरो में…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह