की वंदना पहले गणपत की,
लाया वही थाली पूजन की,
की वंदना पहले गणपत की,

प्रथम कर्त है पूजा तुम्हारी देव सत्य और वेदो के ज्ञानी ,
बुद्धि दो अज्ञानी की की वंदना पहले गणपत की,

गिरजा शंकर के तुम बालक नाम तुम्हरा विघन विनाश्यक,
ऋषि मुनि निष् दिन पूजा की की वंदना पहले गणपत की,

कानन कुंदन रूप मनोहर कर्म कर धन मुरशत वाहन,
छवि दिखे रथ सी महाराज की की वंदना पहले गणपत की,

दुर्गे भगत दर्शन प्यासा है द्वार तुम्हारे आन खड़ा है
लाज बचा दो भगतो की,की वंदना पहले गणपत की,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह