तेरे दर ते मै आया कई वार माँये नी मैनु खैर ना मिली,
कीते तरले मै लख ते हजार माँये नी मैनु खैर ना मिली,
तेरे दर ते मै आया कई वार……

लोकी आऊंदे ते भेटां वी चढ़ाउंदे, तरां तरां दे माँ भोग लगवाऊंदे,
मै ते लै के आया हजुंआ दे हार, माँये नी मैनु खैर ना मिली,
तेरे दर ते मै आया कई वार……

मैनु रोक ना पुजारी कुझ कहण दे झण्डेवाली दा नजारा मैनु लैण दे,
मैनु कड्डी ना तू मन्दिरां तों बहार, माँये नी मैनु खैर ना मिली,
तेरे दर ते मै आया कई वार…….

मैनु अजे वी उड़ीक तेरे आण दी, इधर आ गई ऐ घङी मेरे जाण दी,
टुट चली मेरी साँसां वाली तार, माँये नी मैनु खैर ना मिली,
तेरे दर ते मै आया कई वार……

मै ते कदे वी माँ तैनु ना विसारिया, दुख सुख वेले तैनु ही पुकारिया,
आजा चचंल दी सुण ले पुकार, माँये नी मैनु खैर ना मिली,

कीते तरले मै लख ते हजार, माँये नी मैनु खैर ना मिली,
तेरे दर ते मै आया कई वार……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह