त्रिकुटा दे पहाड़ च मेरी मातारानी दा बसेरा ऐ,
मुदता दा दिल मेरा जिसदे मिलने लई रो रेहा ऐ,
त्रिकुटा दे पहाड़ च मेरी मातारानी दा बसेरा ऐ…….

सबना नू चिठ्ठीया पांदी ऐ दुनिया हर साल बुलांनी ऐ,
भक्ति ही ऐसी है माँ दी चेता ही भुलाया नही जांदा,
त्रिकुटा दे पहाड़ च मेरी मातारानी दा बसेरा ऐ…….

सच्चा सुच्चा ते ऊचाँ तेरा द्वारा ऐ,
भांवे चंगा ऐ भांवे माड़ा ऐ फिर वी बच्चड़ा तेरा ऐ,
त्रिकुटा दे पहाड़ च मेरी मातारानी दा बसेरा ऐ…….

ईक बेनती मेरी स्वीकार करो, मेरी डूबती नैया पार करो,
मेरे जीवन का उद्धार करो, करो दूर अन्धेरा मेरा ऐ,
त्रिकुटा दे पहाड़ च मेरी मातारानी दा बसेरा ऐ…….

जेड़े माँ दी ज्योत जगांदे ने, जीवन सफल बनांदे ने,
मुँहो मगीयां मुरादा पाँदे, जदो दाती दा लगदा फेरा ऐ,
त्रिकुटा दे पहाड़ च मेरी मातारानी दा बसेरा ऐ…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह