मान्ने रंग दो नाथ, थोरे रंग में xll-ll
^हो म्हारा, ठाकुर लक्ष्मी रे नाथ,
म्हारे, सिर पर राखो हाथ l
मेरी नाथ* वसो, म्हारे मन में,
मान्ने रंग दो नाथ, थोरे रंग में xll-ll

तेरा श्याम, रंग लागे प्यारा* ll
मेरी आँखों ने, इसको निहारा l
हो अब तो, वस जाओ मेरे नयन में l
हो म्हारा ठाकुर,,,,,,,,,,,,,,,,,F

भोर भोर मैं, द्वारे आवाँ* ll
चरणामृत, तुलसी पावाँ l
हो ऐसी लगन, लगाओ जीवन में l
हो म्हारा ठाकुर,,,,,,,,,,,,,,,,,F

थोरे रूप में, मैं खो जावाँ* ll
जब चाहवाँ, मैं दर्शन पावाँ l
हो ऐसी ज्योत, जलाओ ह्रदय में l
हो म्हारा ठाकुर,,,,,,,,,,,,,,,,,F

प्रीत राज मैं, जाऊँ बलिहारी* ll
आया नाथ, शरण मैं तिहारी l
हो अब तो रख लो, थोरी शरण में,
हो म्हारा ठाकुर,,,,,,,,,,,,,,,,,F

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह