माँ तेरे मेले दिया सब नू होंन वधाईयां,
दुरो दुरो संगता दातिए,
दर्श तेरे नू आईया,
माँ तेरे मेले दिया सब नू……

था था लग्गे लंगर ते था था भंगड़े पैंदे ने,
उच्ची उच्ची मुख चो तेरी जय जय कहन्दे ने,
इहनियाँ खुशिया देख दातिए,
अखियां झड़िया लाईया,
माँ तेरे मेले दिया सब नू…..

लाल रंगा दे सोहने झंडे, माँ दर झूलदे ने,
वड जाईये जदो माँ दी नगरी, दुखड़े भुलदे ने,
मस्ती दे विच झुमन सारे,
मस्त घटावा छाईया,
माँ तेरे मेले दिया सब नू…..

हर मुखड़े ते नाम तेरे दिया, लालिया छाईयाँ ने,
नरिंदर उग्गी/ आशु सिंघ ने, आसा माँ तेरे ते लाईया ने,
बड़िया सोहनिया लग्गन दातिए,
चुन्निया गला विच पाईया,
माँ तेरे मेले दिया सब नू……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह