हो वखरी जेही शान, माँ दे दर दी,
हो हुंदी शोभा ना ब्यान, माँ दे दर दी,
हो वखरी जेहि शान, माँ दे दर दी……

बैठिया ने दर मल के संगता, लाउंदिया उच्ची जैकारे,
नचदे गाउँदे ख़ुशी मनाउंदे, माँ दे भगत प्यारे,
हो एह माँ है जानीजान, माँ दे दर दी,
हो वखरी जेहि शान, माँ दे दर दी……

जगमग जगमग मंदिर करदा, जगदी ज्योत नूरानी,
भगता दे माँ दुखड़े हरदी, एह माँ जग कल्यानी,
हो ऐहदी शक्ति महान, माँ दे दर दी,
हो वखरी जेहि शान, माँ दे दर दी……

जो भी दर ते मंगन आवे, शरण मईया दी पावे,
जय माता दी केहन नाल ओहदा, हर संकट मिट जावे,
हो आओ गाईये गुणगान, माँ दे दर दी,
हो वखरी जेहि शान, माँ दे दर दी……

रख श्रद्धा जो अपने घर विच माँ दी ज्योत जगावे,
ज्योता वाली जगदम्बे माँ, ओहदे घर विच फेरा पावे,
हो मैं सिफत की करा, माँ दे दर दी,
हो वखरी जेहि शान, माँ दे दर दी……

नूर ते किरपा किती माँ ने, आपने नूर बनाया,
ध्यानु वांगु सच्चे मन नाल, जिस ने माँ नू धेआया,
हो नूर करे गुणगान, माँ दे दर दी,
हो वखरी जेहि शान, माँ दे दर दी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह