लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा ।
जो होगा देखा जाएगा, जो होगा देखा जाएगा ।
जो होगा देखा जाएगा…
तुम्हें अपना बना बैठे, जो होगा देखा जाएगा…
लगन तुमसे, लगा बैठे…

मैं था भटका हुआ राही, मुझे मंज़िल मिली तुमसे ।
मुझे मंज़िल मिली तुमसे…
कि अब दुःख को भुला बैठे, जो होगा देखा जायेगा…
लगन तुमसे, लगा बैठे…

सरकार आ गए हैं, मेरे गरीबखाने में ।
आया है दिल को सुकूंन, उनके करीब आने में।
मुद्दत से प्यासी अख्खियों को, मिला आज वो सागर ।
भटका था, जिसको पाने की खातिर, इस ज़माने में ।

जी भी आया शरण तेरी, भटकने ना दिया तुमने ।
भटकने ना दिया तुमने…
तुम्हे सब कुछ बना बैठे, जो होगा देखा जायेगा…
लगन तुमसे, लगा बैठे…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह