मेरे जीवन की जुड़ गई डोर,
ओ भोले तेरे चरणों में…..

तू एक इशारा कर दे,
मैं दौड़ा चला आऊं काशी में,
मैं तो नहाऊ गंगा रोज,
ओ भोले तेरे चरणों में,
मेरे जीवन की जुड़ गई डोर,
ओ भोले तेरे चरणों में…..

तेरी काशी नगरीया प्यारी प्यारी,
मैं वारी तेरी काशी में,
मेरे जीवन की हो जाए भोर,
ओ भोले तेरे चरणों में,
मेरे जीवन की जुड़ गई डोर,
ओ भोले तेरे चरणों में…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह