लूट कर ले गया दिल जिगर मेरा भोला शंकर…..

माथे पे चंदा, जटाओं में गंगा,
कर में त्रिशूल शोहे, गले में भुजंगा,
घूमते हैं नंदी में बैठकर, मेरा भोला भाला,
लूट कर ले गया दिल जिगर मेरा भोला शंकर…..

सच्ची लगन जो भी शिव से लगाए,
बेल पत्र गंगा जल शिव को चढ़ाए,
रहे जीवन में न कुछ कसर, मेरा भोला शंकर,
लूट कर ले गया दिल जिगर मेरा भोला शंकर…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह