फूल चढ़ाऊं मैं भोले पर फूल नहीं मेरा दिल है……..

मैं तुमसे पूछूं ऐ मेरे भोले क्या तुम्हारे काबिल है,
शीश भोले के गंगा बिराजे, चंद्रमा उनके काबिल है,
गले भोले के मुंडो की माला सर्प उनके काबिल है,
अंग भोले के भस्म विराजे बाघ अंबर उनके काबिल है,
हाथ भोले के डमरू विराजे त्रिशूल उनके काबिल है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह