ये जिंदगी मिली है दिन दो चार के लिए,
कुछ तो पल निकालो भोले के गुणगान के लिए……

कई पुण्य किए होगे जो ये मानव तन है पाया,
पर भूल गया भगवन को माया ने मन भरमाया,
अब तक तो जीते आए घर परिवार के लिए,
ये जिंदगी मिली है दिन दो चार के लिए……

तूने पाई पाई जोड़ी कोई कमी है छोड़ी,
पर सुनले ये तू सुनले तेरे साथ ना जाए एक कोड़ी,
कुछ घर में पुण्य तो जोड़ो उस पार के लिए,
ये जिंदगी मिली है दिन दो चार के लिए……

ये जग है एक सराए कोई आए और कोई जाए,
इस का दस्तूर पुराना कोई सदा ना टिकने पाए,
अरे शिव भोले को भज ले उद्धार के लिए,
ये जिंदगी मिली है दिन दो चार के लिए…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह