आई आई हरि की बारात ( तुलसी विवाह )

धुन :- नी मैं नचना मोहन दे नाल

आई आई हरि की बारात, आज हम नाचेंगे।
हरि नाचेंगे हमारे साथ, आज हम नाचेंगे।।

नगर डगर सब खूब सजे हैं।।
घर घर खुशियों के दीप जगे हैं।।

रंग रस की हो रही बरसात आज हम नाचेंगे…..

रथ सवार है दुल्हा राजा।
बजे ढोल डफ शहिनाई बाजा।।

देवी देवता, आए हैं साथ। आज हम नाचेंगे…..

तुलसी विवाह का लगा है मेला।
मधुर मिलन का ‘‘मधुप’’ यह बेला।।

देव प्रबोधिनी एकादशी की रात। आज हम नाचेंगे….. ।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह