तू ही मेरे मन की थाह जानता है,
मुक्ति की मेरी राह जानता है,
दुःख में भले सिमरन करूं,
ना कभी सुख में भुलाऊं,
ऐसे मुझमें जज्बात रखना,
भगवन मुझे सदैव अपने,
चरणों के साथ रखना…..

कृपा से तुम्हारी चाहा पाऊँ,
पाकर मन की ना इतराऊं,
ऐसी मुझमें औकात रखना,
भगवन मुझे सदैव अपने,
चरणों के साथ रखना…..

हर पल तेरा शुक्र मनाऊं,
महिमा यशश्वी सदैव मैं गाऊँ,
ऐसे सेवादारों की जमात रखना,
भगवन मुझे सदैव अपने,
चरणों के साथ रखना……

किस्मत वाला ही दर पे आता है,
आकर शरण में खुशियां वो पाता है,
भक्ति भरी मुझमें सौगात रखना,
भगवन मुझे सदैव अपने,
चरणों के साथ रखना,
भगवन राजीव को सदैव,
अपने चरणों के साथ रखना……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह