भगत जन ढूंढ रहे किसी ने हमारी मैया देखी,
मैया देखी शेरावाली देखी………

भक्तों तुम्हारी मैया हमने अयोध्या में देखी,
अयोध्या में देखी अयोध्या में देखी,
राम संग वन जाते हुए ओ भक्तों तुम्हारी मैया देखी,
भगत जन ढूंढ रहे किसी ने हमारी मैया देखी………

भक्तों तुम्हारी मैया हमने वृन्दावन में देखी,
हाँ जी वृन्दावन में देखी वृन्दावन में देखी,
कान्हा संग रास रचाते हुए ओ भक्तों तुम्हारी मैया देखी,
भगत जन ढूंढ रहे किसी ने हमारी मैया देखी………

भक्तों तुम्हारी मैया हमने कैलाश पे देखी,
कैलाश पे देखी कैलाश पे देखी,
भोले संग तप करती हुई ओ भक्तों तुम्हारी मैया देखी,
भगत जन ढूंढ रहे किसी ने हमारी मैया देखी………

भक्तों तुम्हारी मैया हमने बैकुंठ में देखी,
बैकुंठ में देखी बैकुंठ में देखी,
विष्णु संग बैठे हुए ओ भक्तों तुम्हारी मैया देखी,
भगत जन ढूंढ रहे किसी ने हमारी मैया देखी………

भक्तों तुम्हारी मैया हमने रण में देखी,
रण में देखी रण में देखी,
दुष्टो का नाश करते हुए ओ भक्तों तुम्हारी मैया देखी,
भगत जन ढूंढ रहे किसी ने हमारी मैया देखी………

भक्तों तुम्हारी मैया हमने घर घर में देखी,
घर घर में देखी घर घर में देखी,
तुलसा का रूप लेते हुए ओ भक्तों तुम्हारी मैया देखी,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह