सारे कष्ट को हरने वाले सुन ले मेरी पुकार
हे दुःख वणजण शिव के नंदन लीला तेरी है ापर ,
तेरी दया से तेरी किरपा से हम नहीं है लाचार,
हे घन के गणेशा तेरी हुई जय जय कार ,

तू है चहेता सब के मन में तू इस जग में महान
रिद्धि सीधी के तू रखवाले प्यारे मेरे भगवान्,
मोती चूर के भोग लगा कर कहते है संसार,
हे घन के गणेशा तेरी हुई जय जय कार ,

तेरे चरण पे शीश जुकाओ तुझको भजु सुबहो शाम,
मन की मुरदे पूरा करे तो कण कण पे है तेरा नाम,
ग़ज केसर को धरने वाले करके मूषक सवार,
हे घन के गणेशा तेरी हुई जय जय कार ,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह