तारा विना श्याम मने, एकलडु लागे,
रास रमवा ने वेलो आवजे,
तारा विना श्याम…एकलडु लागे…
रास रमवा ने वेलो आवजे,
तारा विना श्याम मने, एकलडु लागे,
रास रमवा ने वेलो आवजे…

शरद पूनम नी रातडी ओहो, चांदनी खिली छे भली भांत नी,
तू न आवे तो श्याम, रास जामे न श्याम,
रास रमवा ने वेलो आव आव आव श्याम,
रास रमवा ने वेलो आवजे,
तारा विना….

गरबे घूमती गोपियो ओहो, सूनी छे गोकुल नी शेरीयो,
सूनी सूनी शेरियो मा, गोकुल नी गलियों मा,
रास रमवा ने वेलो आव आव आव श्याम,
रास रमवा ने वेलो आवजे,
तारा विना….

अंग अंग रंग छे उमंग नो ओहो, रंग केम जाए तारा संग नो,
पायल झंकार सुणी, रोदिया नो नाद सुणी,
रास रमवा ने वेलो आव आव आव श्याम,
रास रमवा ने वेलो आवजे,
तारा विना….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह