( हार गया हूँ, टूट गया हूँ,
मुझे लेना, तुम संभाल बाबा ।
तेरे बिना, इस जग में बोलो,
कौन सुने, मेरा हाल बाबा ॥ )

खाटू श्याम, तेरा नाम,
मैं पुकारूं, सुबहो शाम ॥
मैं, दर तेरे आया, लेकर, झोली खाली,
ओ दुनियाँ के वाली, कर नजर मेहर वाली ।
ओ दुनियाँ के वाली, कर नजर मेहर वाली…
मेरी मुश्किल, का कर इंतजाम,
बन जाए काम, खाटू श्याम…
खाटू श्याम, तेरा नाम,
मैं पुकारूं, सुबहो शाम ॥

सुना है तूँ, हारे का, सहारा श्याम जी,
कितनी, जिंदगीयों को, संवारा श्याम जी ।
आखिरी, उमीद मेरी, तूँ खाटू नरेश,
मैं भी तो हूँ, किस्मत का, मारा श्याम जी ।
मैं भी तो हूँ, किस्मत का, मारा श्याम जी…
तूँ मंजिल है, तूँ ही अंजाम,
बन जाए काम, खाटू श्याम…
खाटू श्याम, तेरा नाम,
मैं पुकारूं, सुबहो शाम ॥

शीश के, दानी तूँ सबका, दाता है प्रभु,
कलियुग का, राजा, कहा, जाता है प्रभु ।
तीन बाण, धारी मुझे, रस्ता दिखा,
पल पल, मन, घबराता है प्रभु ।
पल पल, मन, घबराता है प्रभु…
मेरे, दिल का, तूँ बन आराम,
बन जाए काम, खाटू श्याम…
खाटू श्याम, तेरा नाम,
मैं पुकारूं, सुबहो शाम ॥

दिल से, फरियाद, निकली है सरकार,
डूबती, नईया को तूँ, लगा दे उस पार ।
तेरी, चौखट पे तेरा, हो के आ गया,
तेरा ही, रहूँगा, अब लख दात्तार ।
तेरा ही, रहूँगा, अब लख दात्तार…
मेरा जग में, हो रोशन नाम,
बन जाए काम, खाटू श्याम…
खाटू श्याम, तेरा नाम,
मैं पुकारूं, सुबहो शाम ॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह