कबसे राहें तकूँ श्याम तेरी,
क्यों ली ना खबर तूने मेरी,
रुक जाएंगी सांसें ये,
जो तूने करी देरी….

श्याम मेरे श्याम……….
श्याम मेरे श्याम……….

मेरा कोई नहीं है सहारा,
कहीं मिलता नहीं है किनारा,
राहें जीवन की है सब अँधेरी,
क्यों ली ना खबर तूने मेरी,
रुक जाएंगी सांसें ये,
जो तूने करी देरी….

श्याम मेरे श्याम……….
श्याम मेरे श्याम……….

भक्त प्रह्लाद गज को बचाया,
मान द्रोपद का जाके बढ़ाया,
कौरवों की सभा में थी घेरी,
क्यों ली ना खबर तूने मेरी,
रुक जाएंगी सांसें ये,
जो तूने करी देरी…..

श्याम मेरे श्याम……….
श्याम मेरे श्याम……….

तू ही हारे का है एक सहारा,
मुश्किलों में तुझे ही पुकारा,
क्यों राजू से नज़रें ये फेरी,
क्यों ली ना खबर तूने मेरी,
रुक जाएंगी सांसें ये,
जो तूने करी देरी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह