मेरे श्याम की नज़रे कर्म हुयी,
मेरी दुनिया देखो बदल गयी,
मुझपे रेहमत की बरसात होने लगी,
मेरी किस्मत देखो चमक गयी,
मेरे श्याम की नज़रे कर्म हुयी…….

श्याम जी की किरपा जो मिलती रहे,
झोलिया गरीबो की भरती रहे,
पानी से दीप जले देखो,
अंधयारी सारी हट गयी,
मेरे श्याम की नज़रे कर्म हुयी…….

श्याम जी के चरणों में अमृत धार,
कर देती सबका उदार,
हर नईया को श्याम सुंदर पार करे,
देखो मझधार अब फिसल गयी,
मेरे श्याम की नज़रे कर्म हुयी…….

श्रद्धा जो भक्तो की मिलती रहे,
आँखे भी श्याम की हस्ती रहे,
वो नम की रात मिलेगी सदा,
देखो अंधयारी सारी हट गयी,
मेरे श्याम की नज़रे कर्म हुयी…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह