अब मुश्किल ना उलझन कोई, ना डरने की बात है,
मेरा खाटू वाला साथ है,
जब श्याम संवारा साथ है….

रिंग्स से मैं करूं यात्रा अब निशान उठाकर,
खुश पूरा परिवार भी होगा,
श्याम के दर्शन पाकर,
हम सब पे अब होने वाली,
रहमत की बरसात है,
मेरा खाटू वाला साथ है,
जब श्याम संवारा साथ है….

चांद से सुंदर रूप है जिसका,
उसको क्या श्रृंगारूं ,
श्याम धनी को क्या ले जाऊं,
मन में सोच विचारू,
मैं सच्ची श्रद्धा ले आया,
बस इतनी सौगात है,
मेरा खाटू वाला साथ है,
जब श्याम संवारा साथ है….

जब से बाबा साथ खड़े हो,
बदल गए दिन मेरे,
‘विक्रम’ को भी जानते है सब,
अब तो चार–चुफेरे,
तू संग है पहचान बन गई,
मेरी क्या औकत है,
मेरा खाटू वाला साथ है,
जब श्याम संवारा साथ है….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह