बड़ी प्यारी लागे रे धूल वृंदावन की….

उड़ उड़ धूल मेरे माथे पर पड़ी,
मैंने तिलक लगाए भरपूर धूल वृंदावन की,
बड़ी प्यारी लागे रे धूल वृंदावन की….

उड़ उड़ धूल मेरे नैनों पर पड़ी,
मैंने दर्शन किए भरपूर धूल वृंदावन की,
बड़ी प्यारी लागे रे धूल वृंदावन की….

उड़ उड़ धूल मेरे होठों पर पड़ी,
मैंने भजन किए भरपूर धूल वृंदावन की,
बड़ी प्यारी लागे रे धूल वृंदावन की….

उड़-उड़ धूल मेरे हाथों पर पड़ी,
मैंने दान किए भरपूर धूल वृंदावन की,
बड़ी प्यारी लागे रे धूल वृंदावन की….

उड़-उड़ धूल मेरे पैरों पर पड़ी,
परिक्रमा लगाई भरपूर धूल वृंदावन की,
बड़ी प्यारी लागे रे धूल वृंदावन की….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह