जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ….

हे माँ ……हे माँ….. हे माँ ……हे माँ…..
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ,
हे माँ ………हे माँ …. हे माँ……..हे माँ…..

श्री राम तू ही श्री कृष्ण तू ही,
श्री राम तू ही श्री कृष्ण तू ही,
दुर्गा काली श्री राधे तू ही,
हे मँ ……..हे माँ ….हे माँ……..
ब्रहमा विष्णु शकंर में तेरा माँ तेज समाया है,
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ,
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ,
हे माँ …हे माँ …….. हे माँ…हे माँ,
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ….

मै जो पांऊ तुम से पांऊ, मै जो पांऊ तुम से पांऊ,
जो देंवे उसमे हरशाउँ कुछ रहे ना मेरा अपनापन,
है हर वक्त तेरा ही साया है,
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ,
हे माँ …हे माँ …….. हे माँ…हे माँ,
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ……

क्या सोहणा रूप सुहाया है क्या सोहणा रूप सुहाया है
मै वारू तुझ पे तन मन माँ मेरे मन को ये भाया है
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ
हे माँ …हे माँ …….. हे माँ…हे माँ,
जगदम्बिके जय जय जगजननी माँ…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह