हे हंसवाहिनी, ज्ञान दायिनी,
अम्ब विमल मति दे,
अम्ब विमल मति दे,
जग सिरमौर बनाएँ भारत,
वह बल विक्रम दे,
वह बल विक्रम दे,
हे हंसवाहिनी, ज्ञान दायिनी,
अम्ब विमल मति दे,
अम्ब विमल मति दे…..

साहस शील हृदय में भर दे,
जीवन त्याग-तपोमर कर दे,
संयम सत्य स्नेह का वर दे,
स्वाभिमान भर दे,
स्वाभिमान भर दे,
हे हंसवाहिनी, ज्ञान दायिनी,
अम्ब विमल मति दे,
अम्ब विमल मति दे……

लव-कुश, ध्रुव, प्रहलाद बनें हम,
मानवता का त्रास हरें हम,
सीता, सावित्री, दुर्गा मां,
फिर घर-घर भर दे,
फिर घर-घर भर दे,
हे हंसवाहिनी, ज्ञान दायिनी,
अम्ब विमल मति दे,
अम्ब विमल मति दे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह