जय मां जय मां कहिऐ तेरे लगदे नही रुपिऐ,
लगदे नही रूपिऐ जय मां जय मां कहीऐ,
जय मां जय मां……

मां ने तैनू मथा दिता,
शीश झूकादे रहिए, तेरे लगदे नही रूपीऐ,
जय मां जय मां……

मां ने तैनू जीबा दिती,
सुमिरन करदे रहिऐ, तेरे लगदे नही रुपिऐ,
जय मां जय मां……

मां ने तैनू कन है दिते,
सतसंग सुनदे रहिऐ तेरे लगदे नही रूपीऐ,
जय मां जय मां……

मां ने तैनू हथ है दीते,
सेवा करदे रहिऐ तेरे लगदे नही रुपीऐ,
जय मां जय मां……

मां ने तैनू पैर है दिते,
यात्रा करदे रहिऐ तेरे लगदे नही रूपिऐ,
जय मां जय मां कहीऐ लगदे नही रूपिऐ,
हो जय मां जय मां……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह