झूठे जग ने लया मैनु लूट माँ मायें मेरी बाँह फड़ लै,
झूठे जग ने लया मैनु लूट माँ मायें मेरी बाँह फड़ लै,
गया अंदरो ही अंदर टूट माँ मायें मेरी बाँह फड़ लै,
झूठे जग ने लया मैनु लूट माँ….

दुख नित नवीयां खेडा पये ने खेडदे, इक पासे नही माँ चारे पासे घेरदे,
हंजु अखियां दे रहे नही रुक माँ मायें मेरी बाँह फड़ लै,
झूठे जग ने लया मैनु लूट माँ……..

बच्चेया तो पीड़ा हुण जांदीया ना झल माँ, ओखा हुण लंगदा हर इक पल माँ,
ऐवें जाये ना जींद हुण रूल माँ, मायें मेरी बाँह फड़ लै,
झूठे जग ने लया मैनु लूट माँ….

वक्त दियां ठोकरा देन परेशानीयां, मन्देया नसीबा उते करन मनमानियां,
सुख पता नहियो किथे गये रुक माँ, मायें मेरी बाँह फड़ लै,
झूठे जग ने लया मैनु लूट माँ….

अंदरो ही अंदरी दिल मेरा टूटेया, इंज पया लगे जिवें साह हुण मुकेया,
मिटा दे झण्डेवाली जन्मा दी भूख माँ, मायें मेरी बाँह फड़ लै,
झूठे जग ने लया मैनु लूट माँ….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह