कुछ दे ना दे मैया अपने दीवानों को,
दो आंसू तो दे दो चरणों में बहाने को,
कुछ दे ना दे मैया अपने दीवानों को…..

ध्यानु ने बहाया था श्रीधर ने बहाया था,
इन आंसुओं से मां तेरा दर्शन पाया था,
बाकी है दो आंसू मां तुमको मनाने को,
कुछ दे ना दे मैया अपने दीवानों को……

आंसू वो खजाना है किस्मत से मिलता है,
आंसू बह जाने से मां का दिल पिघलता है,
करुणा की तू सागर अब छोड़ बहाने को,
कुछ दे ना दे मैया अपने दीवानों को…….

दुख में बह जाते हैं सुख में भी जरूरी है,
आंसू के बिना मेरी मां हर आस अधूरी है,
आंसू पूरा करते हर एक हर जाने को,
कुछ दे ना दे मैया अपने दीवानों को……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह