माँ तेरी किरपा से, तेरे मंदिर आया हूँ,
मेरी कर सुनवाई माँ, मैं दुखिया आया हु,
माँ तेरी किरपा से……

जय माँ शेरावाली, ऊँचे पहाड़ो वाली,
जय माँ ज्योतावाली, जय माँ मेहरावाली।।

जब नाम लिया मैंने, बड़ा सुकून पाया है,
तेरी किरपा से ओ माँ, ये धुप भी छाया है,
मुझको हँसा दे माँ, रोते हुए आया हु,
माँ तेरी किरपा से……

कहने को अपने है, सब साथ नहीं पाया,
मैं कैसे बताऊ माँ, कुछ कर ही नहीं पाया,
मेरी आस जगा दे माँ, दुनिया से सताया हूँ,
माँ तेरी किरपा से……

जय माँ शेरावाली, ऊँचे पहाड़ो वाली,
जय माँ ज्योतावाली, जय माँ मेहरावाली।।

तेरी इतनी दया हो माँ, जीने को काफी है,
अपनी गलती की माँ, माँगता “अजय” माफ़ी है,
आके चरणों में माँ, मैं खुशिया पाया हूँ,
माँ तेरी किरपा से……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह