तू किरपा कर मैया, जागरण करवाऊंगा,
तेरी ज्योत जगाऊंगा, भक्तो को बुलाऊंगा…..

सुमित पालम वाले कि, मंडली बुलवाऊंगा,
तेरे भजन कराऊंगा, मैं तुमको मनाऊँगा,
मैया के भजनों से, मैया को मनाऊँगा,
हो,,, तेरी ज्योत जगाऊंगा,, भक्तों को बुलाऊँगा,
तू किरपा कर मैया……

मैं लाल चुनरियां से, श्रृंगार कराऊँगा,
लाल-हरी चूड़ियों, सेट तुमको पहनाऊंगा,
जो कुछ भी बनेगा माँ, तुम्हे दिल से चढ़ाऊंगा,
हो,,, तेरी ज्योत जगाऊंगा,, भक्तों को बुलाऊँगा,
तू किरपा कर मैया……

दरबार खड़ा हूँ आज, माँ तेरी माया है,
मैंने जो कुछ पाया है, सब तुमसे पाया है,
ऐसे ही दया रखना, चरणों में हमे रखना,
हो,,, तेरी ज्योत जगाऊंगा,, भक्तों को बुलाऊँगा,
तू किरपा कर मैया……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह