हरि नाम धन बांटिए,
हरि नाम धन सिंचिये,
हरि नाम धन चाखिये,
हरि नाम धन लीजिए….

सबसे ऊंचा नाम हरि का,
इससे ऊंचा और नहीं,
माया को तो चोर लागे,
इस धन को चोर नहीं,
हरि नाम धन बांटिए,
हरि नाम धन सिंचिये,
हरि नाम धन चाखिये,
हरि नाम धन लीजिए…..

शामों सुबहा ध्यान हरि का,
थामे अपनी डोर वही,
हरि प्रेम चखा हो जिसने,
भाए कुछ भी और नहीं,
हरि नाम धन बांटिए,
हरि नाम धन सिंचिये,
हरि नाम धन चाखिये,
हरि नाम धन लीजिए…..

हरि नाम धन ऐसो धन,
जो बांटे सो गुना बढ़ जाये,
जो रिताने तुम चलो,
ये धन रीत ही ना पाए,
हरि नाम धन बांटिए,
हरि नाम धन सिंचिये,
हरि नाम धन चाखिये,
हरि नाम धन लीजिए……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह