देवा हो देवा हो गणपति देवा,
सीधी विनायक हो जय गणेश देवा,
करते मुसक सवारी हे घनराजा,
मेरे घर में पधारो हे महाराजा,

प्रथम में पूजा हो वर दयाक,
तेरी भगति हो बलदायक,
चन्दन चौंकी पे बैठे हो शिव नंदन कहलाते हो,
बाबा विगण हरता हो मंगल है करता,
शीश मुकट धारी हो बाबा शुभ करता,
तेरा ऊचा शृंगासन हो गणराजा,
मेरे घर में पधारो हे महाराजा,

देवो के राजा हो महाराजा,
खुशियां लुटाते हो घनराजा ,
बुधि दाता देवा हो गोरी लाला कहलाते हो,
बाबा गुण दाता बाबा दया करता,
बाबा बलशाली हो पालन है करता,
लेके रिद्धि सीधी आओ घनराजा,
मेरे घर में पधारो हे महाराजा,

एक धनत धारी हो सुख दाता दुनिया के स्वामी हो घन नाथा,
महिमा तेरी निराली हो घनायक तुम ग्यानी हो,
बाबा कष्ट हरता बाबा दुःख हरता बाबा घ्जनन को मोदक है चड़ता,
करे भगतो पे किरपा हो घनराजा

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह